peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Mobile Blog


mankimauj.peperonity.net

स्वागत २०१४ - बधाईयाँ ढेर सारी

31.12.2013 08:29 EST
नया साल, साल गया.
०००
आयु बढ़ जाने की, अवधि बीत जाने की --
अनजाने लक्ष्यों तक न पहुँच पाने की --
व्यथा अतीत बन,
एक कड़ी जोड़ गया,
नया साल, साल गया.
०००
नयापन कौंध गया
शायद अबकी बार,
अतृप्त मन तृप्त हो --
यही भाव बोध गया,
"मैं होता किन्नर नरेश" ----
वाली कवि कल्पना में
नया साल कौंध गया,
नया साल, साल गया.
०००
शायद अबकी बार,
मेरे भारत महान को ---
लोकतंत्रीय अभिमान को,
मिल जाये भिक्षा ---
उर्ध्वमुखी व्यवस्था को
चरित्र की शिक्षा.
०००
नए साल की अल्पना,
सम्भवामि युगे युगे की कल्पना
साकार कैसे होगी ? जबकि --
'फत्ते' जमादार नए वर्ष में भी आयेगा --
ढाबे पर 'नाटे' गिलास बिछाएगा;
महरी की बेटी 'मुनियाँ'
कड़कती ठंढ में पोछा लगाएगी --
साफ़ ना लगा पाने पर
फटकार पायेगी --
३१ दिसंबर को वह रोयी थी
१ जनवरी को भी रोयेगी ---
'फत्ते', 'नाटे', औ 'मुनियाँ' की याद
न्यू इयर मिडनाइट भिगोयेगी;
यही दर्द, साल गया
गया साल, साल गया;
नया साल, साल गया.
०००
-----------------------------------------लखनऊ, २९- दिसंबर' २०१३


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.