peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Mobile Blog


bisfot
my.weblogs.peperonity.net

विस्फोट से सबक

15.07.2011 06:52 EDT
इतना तो साफ है कि देश में स्थितियां ऐसी नहीं हैं कि आप निश्चिंत हो कर बैठ सकें। कल रात मुंबई में हुए विस्फोटों से यह तथ्य रेखांकित होता है कि शरारती तत्व हमारी सुरक्षा एजेंसियों की चौकस नजरों से कहीं ज्यादा शातिर ढंग से स्थितियों का मुआयना कर रहे हैं।

वे इसका फायदा कहीं भी उठा सकते हैं और कभी भी। मुंबई वैसे भी आतंकवादियों की सूची में पहले नंबर पर रही है। 1993 से वहां हर साल -दो साल बाद इस तरह की कोई न कोई वारदात होती ही रही है। यह भारत की व्यापारिक राजधानी है।

यहां व्यस्तता है, भीड़-भाड़ है, मिलीजुली आबादी है और उग्र राजनीति की वजह से कोई वारदात आसानी से सांप्रदायिक तनाव को जन्म दे सकती है। 2008 के हमले ने यह भी समझा दिया है कि इस शहर पर विदेशी जमीन से भी आतंकवादी हमला हो सकता है। यहां छोटी घटना भी बड़ी भगदड़ और सनसनीखेज खबरों में बदल सकती है।

ताजा विस्फोट 2008 के हमले की तरह नहीं हैं, लेकिन इन्हें देख कर पहली नजर में ही पता चल जाता है कि यह आतंकवादी वारदात है और सुनियोजित है। पर शायद इसके लिए पहले की तरह बड़ा फंड नहीं मिला या और उतनी बड़ी तैयारी नहीं की जा सकी।

इसीलिए पहला शक इंडियन मुजाहिदीन जैसे संगठन पर जाता है। हालांकि अभी ऐसा कोई भी निष्कर्ष निकालना उचित नहीं है, और पूरी जांच के बाद ही इसके सभी सूत्र स्पष्ट होंगे। फिलहाल ऐसी हालत में हमारे लिए चुनौतियां और बढ़ जाती हैं, क्योंकि आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए अपना सारा ध्यान और सारे संसाधन हम सिर्फ विदेशी और बड़े संगठनों की ओर ही लगाए रखते हैं।

अब समय आ गया है कि हम एक सतर्क समाज की तरह चौकसी बरतना सीखें। लोग यह समझें कि हमें किस तरह से साजिशों का निशाना बनाया जाता है। हम उन्माद और अफवाहों का शिकार नहीं बनें और अनहोनी के समय में भी संयम बनाए रखना सीखें। निश्चित रूप से मुंबई ने एक से ज्यादा बार अपने धैर्य और अमनपसंदी का सबूत दिया है।

लेकिन खुफिया एजेंसियों और प्रशासन ने चौकसी में ढील बरती है। इसी का एक नमूना यह है कि वारदात की खबर की पुष्टि होने के बाद दिल्ली से एनआईए (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) की टीम मुंबई रवाना की गई। हम सारी एजेंसियां दिल्ली में ही जमा कर के ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.