peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Mobile Blog


sex-stories-of-hindi.peperonity.net

Priyanka ki chudai priyanka ki jubani

10.12.2014 15:30 EST
प्रियंका की ज़ुबानी मित्रो, मेरा नाम प्रियंका है, मैं दिल्ली में रहती हूँ औरपिछले वर्ष का मेरा एक निजी अनुभव पढ़नेवालों को बताना चाहती हूँ। मैं और मेरी सहेली तूलिका अक्सर शाम को अपने बॉयफ्रेंड्स के साथ मौज मस्ती करने उनके फ्लॅट्स पर जाया करतेथे लेकिन किसी कारणवश मेरा मेरे बॉय फ्रेंड के साथमनमुटाव हो गया और हम अलग हो गये। मैं 21 वर्ष की एक सुन्दर लड़की हूँ, मेरा फिगर है32-28-34, रंग साफ है और 5 फुट 4 इंच का क़द। मैं दिल्ली में कॉलेज में पढ़ती हूँ, हमारे कॉलेज की बहुतलड़कियाँ नाइट आउट के लिये लड़कों के साथजाया करती थीं और बहुत बार अनजाने लड़कों के साथभी निकल लेती थीं।ऐसी ही घटना का वर्णन करने जा रही हूँ। मुझे और तूलिका को पता चला कि रात को लाजपत नगरपुल के नीचे बहुत सी कॉल गर्ल्स ग्राहकों की तलाश मेंखड़ी रहती हैं और उनमें कुछ तो काफी ऊँचा दाम भी लेती हैं। मैंने तूलिका से कहा कि चलो यह भी ट्राई करते हैं। उसने साफ मना कर दिया लेकिन मेरे ऊपर तो इसे ट्राई करनेका भूत सवार था तो मैंने जैसे तैसे तूलिका तो अपने साथचलने के लिये मना ही लिया। रात के 12 बजे मैं तूलिका के साथ अपनी कार में लाजपत नगरपुल के नीचे पहुँचे तो देखते हैं कि काफी औरतें और कुछकॉलेज की लड़कियाँ वहाँ मौजूद थीं। कार से निकल के मैंने एक सिगरेट सुलगाई और बाहरखड़ी हो गई। मेरी तो गाण्ड फटी हुई थी कि न जाने अब क्या होगा,कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं हो जायगी। हालांकि मैंने कई बार चुदाई की थी लेकिन सिर्फ अपनेबॉय फ्रेंड के साथ ही! आज यह पहले मौका होगा जब मैं किसी और से चुदूँगी। मेरी सिगरेट खत्म होते होते एक इनोवा कार मेरे पास आकररुकी।अंदर बैठे लड़के ने गाड़ी का शीशा नीचे किया और पूछा-चलेगी? …आजा गाड़ी में! मैं बोली- कितना देगा? 5000 लगेंगे..वो भी अभी…पैसा देगा तो ही बैठूँगी गाड़ी में! वो बोला- ठीक है। और उसने 4000 दे दिये और कहा बाक़ी के 1000 सुबहदेगा। वो पैसे मैंने तूलिका को दे दिये और कार का नंबरभी लिखवा दिया। तूलिका मेरी कार लेकर वापिस घर को चल दी और मैंगाड़ी में चढ़ गई। मैं गाड़ी में बैठ तो गई लेकिन डर से मेरी टांगें कांप रही थीं। पहली दफा मैं किसी अनजान लड़के के साथ नाइट आउट परजा रही थी और वो भी पैसे लेकर। धीरे धीरे हमने बातें करना शुरू कर दिया। उसने अपना नाम विनय बताया। मैंने भी ...
Next part ►


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.