peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


n - Newest pictures
a.i.love.allah.peperonity.net

♥Oh allah♥

Oh allah in your name do i die and in your name do i live.


.....Qur'an Translation.....

(ऐरसूल)येलोगतुमसे(यतीमलड़कियों)सेनिकाहकेबारेमेंफ़तवातलबकरतेहैंतुमउनसेकहदोकिख़ुदातुम्हेंउनसे(निकाहकरने)कीइजाज़तदेताहैऔरजोहुक्ममनाहीकाकुरानमेंतुम्हें(पहले)सुनायाजाचुकाहैवहहक़ीक़तनउनयतीमलड़कियोंकेवास्तेथाजिन्हेंतुमउनकामुअय्यनकियाहुआहक़नहींदेतेऔरचाहतेहो(कियूंही)उनसेनिकाहकरलोऔरउनकमज़ोरनातवॉ(कमजोर)बच्चोंकेबारेमेंहुक्मफ़रमाताहैऔर(वो)येहैकितुमयतीमोंकेहुक़ूक़केबारेमेंइन्साफपरक़ायमरहोऔर(यक़ीनरखोकि)जोकुछतुमनेकीकरोगेतोख़ुदाज़रूरवाक़िफ़कारहैऔरअगरकोईऔरतअपनेशौहरकीज्यादतीवबेतवज्जोहीसे(तलाक़का)ख़ौफ़रखतीहोतोमियॉबीवीकेबाहमकिसीतरहमिलापकरलेनेमेंदोनों(मेंसेकिसीपर)कुछगुनाहनहींहैऔरसुलहतो(बहरहाल)बेहतरहैऔरबुख्लसेतोक़रीबक़रीबहरतबियतकेहमपहलूहैऔरअगरतुमनेकीकरोऔरपरहेजदारीकरोतोख़ुदातुम्हारेहरकामसेख़बरदारहै(वहीतुमकोअज्रदेगा)औरअगरचेतुमबहुतेराचाहो(लेकिन)तुममेंइतनीसकततोहरगिज़नहींहैकिअपनीकईबीवियोंमें(पूरापूरा)इन्साफ़करसको(मगर)ऐसाभीतोनकरो... Continue Reading
ऐ रसूल) ये लोग तुमसे (यतीम लड़कियों) से निकाह के बारे में फ़तवा तलब करते हैं तुम उनसे कह दो कि ख़ुदा तुम्हें उनसे (निकाह करने) की इजाज़त देता है और जो हुक्म मनाही का कुरान में तुम्हें (पहले) सुनाया जा चुका है वह हक़ीक़तन उन यतीम लड़कियों के वास्ते था जिन्हें तुम उनका मुअय्यन किया हुआ हक़ नहीं देते और चाहते हो (कि यूं ही) उनसे निकाह कर लो और उन कमज़ोर नातवॉ (कमजोर) बच्चों के बारे में हुक्म फ़रमाता है और (वो) ये है कि तुम यतीमों के हुक़ूक़ के बारे में इन्साफ पर क़ायम रहो और (यक़ीन रखो कि) जो कुछ तुम नेकी करोगे तो ख़ुदा ज़रूर वाक़िफ़कार है और अगर कोई औरत अपने शौहर की ज्यादती व बेतवज्जोही से (तलाक़ का) ख़ौफ़ रखती हो तो मियॉ बीवी के बाहम किसी तरह मिलाप कर लेने में दोनों (में से किसी पर) कुछ गुनाह नहीं है और सुलह तो (बहरहाल) बेहतर है और बुख्ल से तो क़रीब क़रीब हर तबियत के हम पहलू है और अगर तुम नेकी करो और परहेजदारी करो तो ख़ुदा तुम्हारे हर काम से ख़बरदार है (वही तुमको अज्र देगा) और अगरचे तुम बहुतेरा चाहो (लेकिन) तुममें इतनी सकत तो हरगिज़ नहीं है कि अपनी कई बीवियों में (पूरा पूरा) इन्साफ़ कर सको (मगर) ऐसा भी तो न करो कि (एक ही की तरफ़) ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.