peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


n - Newest pictures
a.i.love.allah.peperonity.net

♥Impossible♥

KEEP PRAYING for what it is you seek, Impossibility and Possibility are merely concepts of your mind

to ALLAH nothing is impossible...


ज़रूरख़ुदाऔरफ़रिश्तोंऔरइल्मवालोंनेगवाहीदीहैकिउसकेसिवाकोईमाबूदक़ाबिलेपरसतिशनहींहैऔरवहख़ुदाअद्लवइन्साफ़केसाथ(कारख़ानाएआलमका)सॅभालनेवालाहैउसकेसिवाकोईमाबूदनहीं(वहीहरचीज़पर)ग़ालिबऔरदानाहै(सच्चा)दीनतोख़ुदाकेनज़दीकयक़ीनन(बसयही)इस्लामहैऔरअहलेकिताबनेजोउसदीनेहक़सेइख्तेलाफ़कियातोमहज़आपसकीशरारतऔरअसली(अम्र)मालूमहोजानेकेबाद(हीक्याहै)औरजिसशख्सनेख़ुदाकीनिशानियोंसेइन्कारकियातो(वहसमझलेकि)यक़ीननख़ुदा(उससे)बहुतजल्दीहिसाबलेनेवालाहै(ऐरसूल)पसअगरयेलोगतुमसे(ख्वाहमाख्वाह)हुज्जतकरेतोकहदोमैंनेख़ुदाकेआगेअपनासरेतस्लीमख़मकरदियाहैऔरजोमेरेताबेहै(उन्होंने)भीऔरऐरसूलतुमअहलेकिताबऔरजाहिलोंसेपूंछोकिक्यातुमभीइस्लामलाएहो(यानही)पसअगरइस्लामलाएहैंतोबेख़टकेराहेरास्तपरआगएऔरअगरमुंहफेरेतो(ऐरसूल)तुमपरसिर्फ़पैग़ाम(इस्लाम)पहुंचादेनाफ़र्ज़है(बस)औरख़ुदा(अपनेबन्दों)कोदेखरहाहैबेशकजोलोगख़ुदाकीआयतोंसेइन्कारकरतेहैंऔरनाहक़पैग़म्बरोंकोक़त्लकरतेहैंऔरउनलोगोंको... Continue Reading
ज़रूर ख़ुदा और फ़रिश्तों और इल्म वालों ने गवाही दी है कि उसके सिवा कोई माबूद क़ाबिले परसतिश नहीं है और वह ख़ुदा अद्ल व इन्साफ़ के साथ (कारख़ानाए आलम का) सॅभालने वाला है उसके सिवा कोई माबूद नहीं (वही हर चीज़ पर) ग़ालिब और दाना है (सच्चा) दीन तो ख़ुदा के नज़दीक यक़ीनन (बस यही) इस्लाम है और अहले किताब ने जो उस दीने हक़ से इख्तेलाफ़ किया तो महज़ आपस की शरारत और असली (अम्र) मालूम हो जाने के बाद (ही क्या है) और जिस शख्स ने ख़ुदा की निशानियों से इन्कार किया तो (वह समझ ले कि) यक़ीनन ख़ुदा (उससे) बहुत जल्दी हिसाब लेने वाला है (ऐ रसूल) पस अगर ये लोग तुमसे (ख्वाह मा ख्वाह) हुज्जत करे तो कह दो मैंने ख़ुदा के आगे अपना सरे तस्लीम ख़म कर दिया है और जो मेरे ताबे है (उन्होंने) भी और ऐ रसूल तुम अहले किताब और जाहिलों से पूंछो कि क्या तुम भी इस्लाम लाए हो (या नही) पस अगर इस्लाम लाए हैं तो बेख़टके राहे रास्त पर आ गए और अगर मुंह फेरे तो (ऐ रसूल) तुम पर सिर्फ़ पैग़ाम (इस्लाम) पहुंचा देना फ़र्ज़ है (बस) और ख़ुदा (अपने बन्दों) को देख रहा है बेशक जो लोग ख़ुदा की आयतों से इन्कार करते हैं और नाहक़ पैग़म्बरों को क़त्ल करते हैं और उन लोगों को (भी) क़त्ल करते हैं जो ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.