peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


img wa - Woman Indian
a1kindheart.peperonity.net

सैराट

सैराट के दृश्य बार बार आँखों पर समंदर की लहरों के थपेड़े जैसे लग कर चले जाते हैं । दिल दिमाग़ कहीं और उलझा रहता है तभी अचानक फ़िल्म की तस्वीर ज़हन में कहीं से उभर आती है । जब से सैराट देखी है सैराट से भाग नहीं पा रहा हूँ । ऐसा लगता है कि किसी ने घर के कोने कोने में सैराट की एक एक तस्वीर फ्रेम कराकर टाँग दी है। बहुत दिनों बाद ऐसी ललकारी फ़िल्म देखी है ।

सैराट मराठी में बनी है मगर इसके दृश्य बिना भाषा की मदद के क्रूर समाजों में पसर जाने की क्षमता रखते हैं । यदि आप तमिलनाडु की दलित और ओबीसी की हिंसा, मुज़फ़्फ़रनगर से लेकर आगरा तक के लव जिहादियों, हरियाणा के खाप पंचायतों, राजस्थान में एक दलित लड़की डेल्टा के साथ हुए बलात्कार, मध्य प्रदेश के गाँवों में दलित दूल्हे को घोड़े पर न चढ़ने देने की घटना को सामान्य रूप से पचा लेते हैं तो आप सैराट के दर्शक कैसे हो सकते हैं । मैं यही सोच कर बेचैन हूं कि इसे देखने वाला समाज बदल गया है, बदल चुका है या कुछ भी कर लो फ़िल्म देख लेगा मगर बदलेगा नहीं । कौन लोग हैं ये जिन्हें सैराट पसंद आ रही है ।

वायलिन और बीथोवन की सिम्फनी की धुनों के सहारे इसके संगीत आपको अपनी सीट से हवा में उछाल देते हैं, आप उछले रहे इसलिए उन तमाम आधुनिक पलों को उपलब्ध करा देते हैं जो आप भारत के किसी कस्बाई अंचल में रहते हुए दिल्ली मुंबई आने से पहले पाना चाहते हैं । घर लौट कर सैराट के गाने को बार बार सुनता रहा । लगा ही नहीं कि मराठी जानने की ज़रूरत है। निर्देशक नागराज की टीम ने संगीत से जो कमाल किया है वो उनके दृश्यों के कमाल से कम नहीं है। इसके गाने नचा देते हैं । खेतों में दौड़ा देते हैं । झूमा देते हैं । उड़ा देते हैं । गाने के स्केल में सबसे नीचे चित्कार की धुनें आहट देती रहती हैं जिन्हें आगे चलकर तलवार की तरह सीने में धँस जाना होता है । अवसाद में डुबा देने से पहले उल्लास का ऐसा मस्त जश्न याद नहीं कब देखा था ।

पिछले हफ्ते मुंबई में एक दिन के लिए था। पान वाले से लेकर कार चलाने वाले जिससे भी पूछा कि सैराट देखी क्या । सब जवाब देते देते खो गए जैसे उस वक्त सैराट ही देख रहे हों । सुबह की फ्लाइट के लिए जो कार चालक आया था उससे भी यही पूछा कि मुझे सैराट के पोस्टर नहीं दिख रहे हैं । ताज विवांता से निकलते ही वो मुझसे ज़्यादा बेचैन हो गया । मुझे किसी ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.