peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Multimedia gallery


t r g
aloneprince007.peperonity.net

]¦•¦[Inspiring Quotes]¦•¦[

!
¡
हर किसी के अन्दर अपनी "ताकत" और अपनी "कमजोरी" होती है.
मछली जंगल मे नही दौड़ सकती और
शेर पानी मे राजा नही बन सकता.
इसलिए अहमियत सभी को देना चाहिए...!!
!
¡
मै भले ही वो काम नही करता जिससे भगवान मिलेँ, पर
वो काम जरूर करता हूं, जिससे दुआ मिले...!!
!
¡
इंसानियत दिल मे होती है,
हैसियत मे नही...!!
ऊपरवाला केवल कर्म देखता है,
वसीयत नही...!!
!
¡
किसी को गलत समझने से पहले, एक बार उसके हालात समझने की कोशिश जरूर करेँ...!!
!
¡
अपनी परेशानियोँ से भागना एक ऐसी रेस है, जो
आप कभी जीत नही सकते...!!
!
¡
हर व्यक्ति एक हुनर लेकर पैदा होता है, बस उस हुनर को दुनिया के सामने लाओ...!!
!
¡
सफलता उन्ही को मिलती है, जो कुछ करते हैँ...!!
!
¡
कुछ पाने के लिए कुछ खोना नही बल्कि कुछ करना पड़ता है...!!
!
¡
कर्ज और शत्रू को कभी बड़ा मत होने दो...!!
!
¡
ईश्वर पर पूरा भरोसा रखो...!!
!
¡
प्रार्थना करना कभी मत भूलो, प्रार्थना मे अपार शक्ति होती है...!!
!
¡
अपने काम से मतलब रखो...!!
!
¡
समय सबसे ज्यादा कीमती है, इसको फालतू कामो मे खर्च मत करो...!!
!
¡
जो आपके पास है, उसी से खुश रहना सीखो...!!
!
¡
बुराई कभी भी किसी की भी मत करो, क्योँकि बुराई नाव मे छेद के समान है. छोटी छेद बड़ी नाव तो डुबो ही देती है...!!
!
¡
हमेशा सकारात्मक सोच रखो...!!
!
¡
किसी के पास से कुछ जानना हो तो विवेक से दो बार पूछो|
!
¡
खूब जरूरी हो तभी कोई चीज उधार लो|
!
¡
रोज हो सके तो सूरज को उगते हुए देखेँ|
!
¡
आपके पीछे खड़े व्यक्ति को भी कभी आगे जाने का मौका दो|
!
¡
किसी के सपनोँ पर मत हसोँ|
!
¡
खुद की भूल स्वीकारने मे कभी भी संकोच मत करो|
!
¡
दिन मे कम से कम तीन लोगोँ की प्रशंसा करो|
!
¡
खुद की कमाई से कम खर्च हो ऐसी जिन्दगी बनाओ|
!
¡
तरक्की अगर चाहते हो वतन की, गला आफतोँ मेँ फसाना पड़ेगा|
?
¿
जीत के विश्वास से मैदान मेँ उतरने वाला खिलाड़ी ही विजय प्राप्त करता है|
?
¿
सु..अवसरोँ पर कदम बढ़ाना ही सफलता की सीढ़ी चढ़ने का उत्तम तरीका है|
?
¿
दुआ भी तकदीर बदल सकती है|
?
¿
नाना प्रकार के तथ्य मनुष्य के मस्तिष्क का व्यायाम कराते हैँ|
?
¿
बचपन की जिज्ञासा ही बच्चोँ के गुणोँ की नीँव है|
?
¿
सर्वोच्चता की राह पर विपत्तियाँ तिनके के समान हो जाती हैँ|
?
¿
प्रत्येक पुस्तक एक समस्या का समाधान होता है|
?
¿
मनुष्य के ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.