peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


fuckstories.peperonity.net

फिर तेरी कहानी याद आयी

Hi everybody, story or incident (what ever you say) बताने ने से पहेलय मैन खुद का introduction आप से करना पसनद करुनगा।

I am Arindam from Calcutta.मैन science graduate हून।

कोइए इनसिदेनत बतने के पहेलय उसका सुर्रौनदिनग सितुअतिओन बतना ज़रुरि होता हैन नहीन तो समजने मय तकलिफ़ होता हैन।

तो येह उस वकत का का बात हैन जब मैन अपना(+2)एक्सम पस्स करके सोल्लेगे मय दखिल हो चुक्का था।हुम एक्क किरै के घर मय रहेतय थेय जो मेरा मौसा का था। हुमरा खुद का मकन तबतक तैयर नहीन हुअ था। हुमलोग(मैन,पपा,मा) 2नद फ़लूर मय रहेते थय ओर मौसा 4थ फ़लूर मैन।मौसा के साथ हमरा करीब का रिसता था।मेरे मौसा कि बेति रुपा मुझसे 2 साल कि चोति थि ओर उसके साथ मेरा तलमिल अस्सहा था।वोह मेरा बहेन भि थि ओर दोसत भि थि।मैन उसेय मेरा दिल का हरेक्क बात बतता था ओर वोह मेरि हर एक्क बात धयन के सथ सुनति थि।पिनकी रुपा कि करीब कि सहेलि थि(बेसतफ़रिएनद)जो रुपा कि साथ एक्कहि सलस्स मैन परति थि।पिनकी बहुत खुबसुरत थि येह तो मैन नहीन कहुनगा लकिन उस्स मय ऐसि कुच बात थि जो मेरे दिल को चु जता था।सचूल से लौत ने के 1यह 2 घनता(हौर)बद पिनकी रोज़ रुपा से मिलनय हमरे अपरतमेनत मय आति थि।कयुन कि रुपा कि साथ मेरा रिसता बहुत अस्सहा था इस लियेह कभि कभि मैन,रुपा और पिनकी एक्क सथ मिलके गप्पेय(गोस्सिप) मरते थय,कभि कभि मैन उन 2दोनो कि सथ सिनेमा भि देखने जता था।

इतना सब कुच होने कि बद भि मैन पिनकी के सथ खुलके बत नहीन कर पता था।धेरय धेरय मुझे महेसुस होने लगा था कि मैन उसे पयर करने लगा हु।मेरे दिल के बात पिनकी को बतने के पहेलय मैन रुपा से पूच लेना ज़रुरि समझा इस्स लियेह एक्कदिन मैन दिल का बात रुपा को बतया।रुपा पहेलय सुन के हस परि ओर मुझे बोलि येह बहुत आचि बात हैन।उस्स से मुझे पता चला कि पिनकी भि मेरे बरे मय रुपा से पुचतच करति हैन।रुपा ने मुझे खुद जकर पयर का इशर करने का सलह दि।
उस्स ने मुझे बतयि कि येह कम वहो भि कर सकति हैन लकिन अगर मैन खुद जकर पिनकी को बतौनगा तो उसका इमपसत ज़दा आचा होगा।

रुपा कि सलह कि मुतबिक मैन एक्क दिन पुरा हिम्मत जुतकर हमरे अपरतमेनत कि निचे जके खरा हो गया ओर पिनकी कि आने कि इनतेज़र करने लगा,लकिन जैसे हि मैन पिनकी को देखा तो मेरा ज़ुबन सुखजने लगा,पसिना बहर अने लगा।जब वहो मेरा बिलकुल करीब आचुकि थि तब मेरा दिल का धदकन भि तेज़ होने लगा।पिनकी ने मुझे देखकर हसि ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.