peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


india.todays.peperonity.net

राजस्थान दिवस !



30 MARCH

जयपुर। शुक्रवार को राजस्थान अपना 63वां स्थापना दिवस मनाएगा। राज्यके गठन से लेकर अब तक राजस्थान ने कई शक्लें बदली हैं। रजवाड़ों की धरती के बाद कभी बीमारू राज्य कहा जाने वाला अपना प्रदेश अब विकास की नई तस्वीर पेश करताहै।
राजस्थान दिवस पर राज्यपाल व सीएम ने दी शुभकामनाएं
राज्यपाल शिवराज पाटील व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को राजस्थान दिवस के मौके पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। राज्यपाल ने अपने संदेश में कहा है कि भौगोलिक विषमताओं व प्राकृतिक चुनौतियों के बावजूद यहां के नागरिकों की दृढ़ इच्छा शक्ति और आपसी सहयोग से प्रदेश का चहुंमुंखी विकास हो सका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान विकास के पथ पर निरन्तर आगे बढ़ता हुआ देश का अग्रणी राज्य बनने की मुहिम मे जुटा है।
ढेरों रियासत एक राजस्थान
आजादी के बाद देश में घटनाचक्र इतनी तेजी से घूमा कि मात्र एक वर्ष की अल्पावधि में राजपूताना की रियासतों की सीमाएं समाप्त हो गई और सात विभिन्न चरणों में वर्तमान राजस्थान का स्वरूप विकसित हुआ। इस प्रक्रिया में 19 रियासत और तीन चीफशिप एक हुई और राजस्थान बन गया।
मत्स्य संघ, 18 मार्च, 1948
27 फरवरी, 1948 को अलवर, भरतपुर, धौलपुर और करौली के तत्कालीन नरेशों के समक्ष दिल्ली में केंद्रीय सरकार की ओर से चारों रियासतों के विलीनीकरण का प्रस्ताव रखा गया, जिसे चारों ने स्वीकार कर लिया। इस नए राज्य संघ कानाम मत्स्य संघ रखा गया। अलवर मत्स्य प्रदेश की राजधानी बना।
राजस्थान संघ, 25 मार्च, 1948
राजस्थान के एकीकरण का दूसरा महत्वपूर्ण चरण 25 मार्च, 1948 को पूरा हुआ जब कोटा, बंूदी, झालावाड़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, किशनगढ़, टोंक औरशाहपुरा रियासतों के शासकोंने मिलकर राजस्थान संघ का निर्माण किया। इसकी राजधानीकोटा को बनाया गया।
संयुक्त राजस्थान, 18 अप्रैल, 1948
18 अप्रैल, 1948 को उदयपुर रियासत का राजस्थान संघ में विलय होने पर संयुक्त राजस्थान का निर्माण हुआ। उदयपुर को इस नए राज्य की राजधानी बनाया गया।
वृहद राजस्थान, 30 मार्च, 1949
इस समय तक जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, जैसलमेर और सिरोही रियासतें एकीकरण में शामिल नहीं हुई थीं। 19 जुलाई, 1948 को केंद्रीय सरकार के निर्देश पर लावा चीफशिप को जयपुर राज्य में शामिल कर लिया गया। कुशलगढ़ की चीफशिप पहले से ही ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.