peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


dance of bhalua
indian.nights.peperonity.net

भालू की पूँछ गई कहाँ?

गप वाली कहानी

कभी भालू की चमकीली लंबी पूँछ हुआ करती थी, पर अब नहीं है। बेचारा भालू। किसी की बात में आकर काम करने से काम का बिगाड़ा ही होता है। अगर भालू लोमड़ी की बात में नहीं आता तो क्या ये होता भला। इस बारे में जो कहानी है वह आज भी जर्मनी और उत्तरी अमेरिका में सुनाई जाती है। आओ हम भी सुनते हैं।
बहुत समय पहले भालू की लंबी चमकदार पूँछ हुआ करती थी। भालू भाई को इस पर बड़ा गर्व था। वह सभी से पूछता था कि आज मेरी पूँछ कैसी लग रही है। अब कोई भालू से पंगा लेता क्या भला? उसकी बड़ी कद-काठी और पंजे देखकर हर कोई कहता- बहुत सुंदर, बहुत सुंदर। भालू इस पर फूला नहीं समाता। कहने वाले यह भी कह देते कि भालू की पूँछ से सुंदर किसी की पूँछ नहीं। बस, भालू दिनभर अपनी पूँछ-प्रशंसा सुनता रहता।
एक बार ठंड के दिनों में कुछ ज्यादा ही ठंड पड़ी। इतनी कि झील और पोखर सब जम गए। शिकार ढूँढना भी मुश्किल हो गया। ऐसे में भालू अपनी सुंदर पूँछ लिए एक झील के पास से जा रहा था, तभी उसकी नजर वहाँ बैठी एक लोमड़ी पर पड़ी। लोमड़ी के पास मछलियों का ढेर लगा था। देखकर भालू के मुँह में पानी आ गया। लोमड़ी चालाक थी। उसने भाँप लिया कि भालू को भूख लगी और मछलियों को देखकर उसकी नजर खराब हो गई है। भालू ने कहा- लोमड़ी बहन कैसी हो? तुमने ये सारी मछलियाँ कहाँ से पाई?
लोमड़ी ने चालाकी दिखाते हुए इस झील से, लोमड़ी ने जमी हुई झील में एक जगह गड्ढा दिखाते हुए कहा। भालू भी कम नहीं था। उसने कहा, पर तुम्हारे पास मछली पकड़ने का काँटा तो है ही नहीं? लोमड़ी बोली, मैंने अपनी पूँछ की मदद से ये सारी मछलियाँ पकड़ी हैं। भालू ने आश्चर्य के साथ पूछा- क्या कहा, तुमने ये मछलियाँ अपनी पूँछ से पकड़ी हैं।
लोमड़ी ने जवाब दिया- हाँ, भई इसमें इतना आश्चर्य करने वाली कौन-सी बात है। मछली पकड़ने के लिए पूँछ किसी भी काँटे से बेहतर है। भालू ने कहा- मुझे भी सिखाओ। लोमड़ी बोली- इस झील में जितनी मछलियाँ थीं वे मैंने सारी पकड़ ली हैं, आओ किसी दूसरी झील पर चलते हैं।
लोमड़ी और भालू दूसरी झील की तरफ आ गए। दूसरी झील पूरी जमी थी। भालू ने तुरंत अपने तेज पंजों से वहाँ एक गड्ढा बना दिया। अब क्या करूँ? भालू ने पूछा। लोमड़ी बोली- अब पूँछ गड्ढे में डालकर बैठ जाओ। जैसे ही मछली फँसेगी तुम्हें अपने आप मालूम पड़ जाएगा।पर, हाँ ज्यादा हिलना-डुलना मत और सिर्फ मछली के बारे में सोचना।
जितनी ज्यादा ...
Next part ►


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.