peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


white lion - Animals/Nature
islamic.jihad.in.india.peperonity.net

सिख गुरुओं की अगुवाई में हिंदू धर्म का बचना

आंशिक भारत में मुस्लिम राज्य काल (१२०६-१७०७)- इस काल खं डमें मुसलमानों ने अनेक वंशों ने विभिन्न कालों तक राज कियाः जैसे कुतुबुद्‌दीन ऐबक (१२०६-१२१०), अलाउद्‌दीन खिलजी (१२९६-१३१६); मुहम्मद बिन तुगलक (१३२६-१३५१); फीरोजशाह तुगलक (१३५७-१३८८); बाबर (१५१९-१५३०); शेरशाह सूरी (१५४०-१५४५); अकबर (१५५६-१६०५); शाहजहाँ (१६२८-१६५८); और औरंगजेब(१६५८-१७०७)।
इन पाँच सौं वर्षों में मुस्लिम सुलतानों ने इ्रस्लामी शरियाह के अनुसार हिन्दुओं पर असीम निर्मम अत्याचार किए। उनका इस्लाम में बलात्‌ धर्मान्तरण एवं सामूहिक कत्ले आत किया, युवाओं को गुलाम बनाया, लाखों स्त्रियों को लूटा, विदेशों में बेचा एवं हजारों मन्दिरों को तोड़ा। इनका प्रमाणिक वर्णन अनेक मुस्लिम और गैर-मुस्लिम सभी इतिहासकारों ने किया है जिनकी एक झाँकी जयदीपसेन द्वारा लिखित ‘भारत में जिहाद’ में देखी जा सकती है।
इन अमानुषिक अत्याचारों में मुस्लिम आक्राताओं के साथ अनेक सूफी संत जैसे मुउनुद्‌दीन (१२३३), शेख फरीदुद्‌दीन (१२६५), शेख निजामुद्‌दीन (१३३५) आदि आए। इन्होंने एवं सशस्त्र दोनों प्रकार की जिहाद द्वारा उत्तर प्रदेश, बंगाल दक्षिण भारत एवं कश्मीर में भारी संखया में हिन्दुओं का धर्मान्तरण किया (के.एस. लाला, इंडियन मुस्लिम्स हू आर दे,पृ. ५८-७०)
पर प्रश्न उठता है कि इतने पर भी हिन्दू भारत में कैसे बचे रहे? इसका उत्तर प्रसिद्ध सूफी सन्त अमीर खुसरों देता हैः ”अगर हनाफी कानून का भारत में प्रचलन न हुआ होता, जो हिन्दुओं को जजिया कर देने पर जीवन की टूट प्रदान करताहै, तो हिन्दू जड़ शाखा सहित पूरी तरह समाप्त हो गए होतो— ‘बधिम्महा गढ़ना बुदि रुखसत-ई शरना मंडी नाम. ई हिन्दु जी स्ल ता फर’ (अमीर खुसरो आशिकाह, सं. राशि अहमद अंसारी, अलीगढ़ १९१७ पृ. ४६) हनीफी कानून के अलावा सभी मुस्लिम कानून गैर-मुसलमानों को ‘इस्लाम या मौत’ में से एक की इजाजत देते हैं। इसके अलावा१५६४ में जजिया हटा लिया गया जिसे औरंगजेब ने १६७९ में दुबारा लगा दिया।
संक्षेप में यह कहना उचित होगा कि इतने अत्याचारों के बाद भी मुसलमान इस अवधि में समस्त भारत पर ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.