peperonity.net
Welcome, guest. You are not logged in.
Log in or join for free!
 
Stay logged in
Forgot login details?

Login
Stay logged in

For free!
Get started!

Text page


n
islamic.jihad.in.india.peperonity.net

गुरु गोविंद सिंह जी और उनका औरगंजेब को पत्र

भारत अनादि काल से हिन्दू देश रहा है. इस देश में जितने भी धर्म, संप्रदाय और मत उत्पन्न हुए हैं, उन सभी के अनुयायी, इस देश के वास्तविक उतराधिकारी हैं. लेकिन जब भारत पर इस्लामी हमलावरों का शासन हुआ तो उन्होंने हिन्दू धर्म और हिन्दुओं को मिटाने के लिए हर तरह के यत्न किये. आज जो हिन्दू बचे हैं, उसके लिए हमें उन महापुरुषों का आभार मानना चाहिए जिन्होंने अपने त्याग और बलिदान से देश और हिन्दू धर्म को बचाया था.
इनमे गुरु गोविन्द सिंह का बलिदान सर्वोपरि और अद्वितीय है. क्योंकि गुरूजी ने धर्म के लिए अपने पिता गुरु तेगबहादुर और अपने चार पुत्र अजीत सिंह, जुझार सिंह, जोरावर सिंह और फतह सिंह को बलिदान कर दिया था. बड़े दो पुत्र तो चमकौर के युद्ध में शहीद हो गएथे. और दो छोटे पुत्र जोरावर सिंह (आयु 8) साल और फतह सिंह (आयु 5) साल जब अपनी दादी के साथ सिरसा नदी पार कर रहे तो अपने लोगों से बिछड़ गए थे. जिनको मुसलमान सूबेदार वजीर खान ने ठन्डे बुर्ज में सरहिंद में कैद कर लिया था.
वजीर खान ने पहिले तो बच्चों को इस्लाम काबुल करने के लिए लालच दिया. जब बच्चे नहीं माने तो मौत की धमकी भी दी. लेकिन बच्चों ने कहा कि हमारे दादा जी ने धर्मकि रक्षा के लिए दिली में अपना सर कटवा लिया था. हम मुसलमान कैसे बन सकते हैं? हम तेरे इस्लाम पार थूकते हैं.
(गुरु तेगबहादुर ने 16 नवम्बर 1675 कोहिन्दू धर्म कि रक्षा के लिए अपना सर कटवा लिया था) बच्चों का जवाब सुनकर वजीर खान आग बबूला हो गया. उसने दौनों बच्चों को एक दीवाल में जिन्दा चिनवानेका आदेश दे दिया. और उन्हें शहीद कर दिया.यह सन 1705 की बात है. उस समय देश पर औरंगजेब की हुकूमत थी. वह इस्लाम का जीवित स्वरूप था. मुसलमान उसे अपना आदर्श मानते है. यदि कोई औरंगजेब की नीतियों और उसके चरित्र को समझ ले तो उसे कुरान और शरीयत को समझनेकी कोई जरुरत नहीं होगी. आज भी मुसलमान उसका अनुसरण करते है.
जब गुरूजी को बच्चों के दीवाल में चिनवाए जाने की खबर मिली तो वह हताश नहीं हुए. गुरुजी चाहते थे कि लोग अपनी कायरता को त्याग करके निर्भय होकर अत्याचारी मुगलों का मुकाबला करें. तभीधर्म कि रक्षा हो सकेगी. ...


This page:




Help/FAQ | Terms | Imprint
Home People Pictures Videos Sites Blogs Chat
Top
.